हमसे जुड़े

December 17, 2011

1971 युद्ध की कुछ दुर्लभ तस्वीरें


वर्ष 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान पूर्वी और पश्चिमी पाकिस्तान में दोनों देशों के सैनिकों की बीच जमकर लड़ाई हुई. लेकिन आख़िरकार पाकिस्तानी सैनिकों ने हथियार डाल दिए. इस युद्ध की कुछ दुर्लभ तस्वीरें देखिए



Before surrender Indian Commander Welcomes Pakistani Commander



भारतीय सैनिकों को ढाका की तरफ़ बढ़ने से रोकने के लिए पाकिस्तानी सैनिकों ने हार्डिंज पुल पर अपना ही टैंक ख़राब करके छोड़ दिया.(तस्वीर- भारत-रक्षक डॉट



A Pak Army Patton brewing up smoke after being hit in the Shakargarh sector



Lieutenant General Niazi being escorted by Lieutenant General Aurora and other senior Indian Army officers for the signing of the Instrument of Surrender on 16 December 1971



Jubilant paratroopers from the 2nd Para, entering Dacca - the capital of the newly-founded state of Bangladesh, on 16 December 1971.



Indian jawans atop a captured T-59 tank of the Pakistan Army. The T-59 was a copy of the Russian T-55. This photo was probably taken in the Chamb sector.



Major General M H Ansari (right), Commander of the Pakistan Army's 9th Division is pleasantly relieved as he surrenders to Major General M S Brar (left), Commander of India's 4th Division. The 4th Infantry Division a.k.a. the Red Eagle Division is an infantry division that draws its roots to before Indian independence, having been formed in Egypt in 1939 under the command of then Major General (later Lieutenant General) Sir Noel Beresford-Peirse, KBE, CB, DSO. The Fighting Fourth, as it was also known, was the first Indian formation to go overseas during the Second World War



Pakistan Army Officers lay down their side-arms as a formal act of surrender to the Indian Army in East Pakistan.



Pakistan Army troops set up a charge, to blow a vital bridge in attempt to slow down the Indian Army advance towards Dhaka - the capital of the erstwhile East Pakistan.



Two jawans pose for the camera atop a captured Pakistani Army M-24 Chafee after the Battle of Boyra on 21 November 1971.



















पाकिस्तान के सैनिक तानाशाह याहिया ख़ाँ ने जब 25 मार्च 1971 को पूर्वी पाकिस्तान की जन भावनाओं को सैनिक ताकत से कुचलने का आदेश दे दिया और शेख़ मुजीब गिरफ़्तार कर लिए गए, वहाँ से शरणार्थियों के भारत आने का सिलसिला शुरू हो गया.
जैसे-जैसे पाकिस्तानी सेना के दुर्व्यवहार की ख़बरें फैलने लगीं, भारत पर दबाव पड़ने लगा कि वह वहाँ पर सैनिक हस्तक्षेप करे.

इंदिरा चाहती थीं कि अप्रैल में हमला हो

इंदिरा गांधी ने इस बारे में थलसेनाअध्यक्ष जनरल मानेकशॉ की राय माँगी.
उस समय पूर्वी कमान के स्टाफ़ ऑफ़िसर लेफ़्टिनेंट जनरल जेएफ़आर जैकब याद करते हैं, "जनरल मानेकशॉ ने एक अप्रैल को मुझे फ़ोन कर कहा कि पूर्वी कमान को बांग्लादेश की आज़ादी के लिए तुरंत कार्रवाई करनी है. मैंने उनसे कहा कि ऐसा तुरंत संभव नहीं है क्योंकि हमारे पास सिर्फ़ एक पर्वतीय डिवीजन है जिसके पास पुल बनाने की क्षमता नहीं है. कुछ नदियाँ पाँच पाँच मील चौड़ी हैं. हमारे पास युद्ध के लिए साज़ोसामान भी नहीं है और तुर्रा यह कि मॉनसून शुरू होने वाला है. अगर हम इस समय पूर्वी पाकिस्तान में घुसते हैं तो वहीं फँस कर रह जाएंगे."
मानेकशॉ राजनीतिक दबाव में नहीं झुके और उन्होंने इंदिरा गांधी से साफ़ कहा कि वह पूरी तैयारी के साथ ही लड़ाई में उतरना चाहेंगे.
तीन दिसंबर 1971...इंदिरा गांधी कलकत्ता में एक जनसभा को संबोधित कर रही थीं. शाम के धुँधलके में ठीक पाँच बजकर चालीस मिनट पर पाकिस्तानी वायुसेना के सैबर जेट्स और स्टार फ़ाइटर्स विमानों ने भारतीय वायु सीमा पार कर पठानकोट, श्रीनगर, अमृतसर, जोधपुर और आगरा के सैनिक हवाई अड्डों पर बम गिराने शुरू कर दिए.
इंदिरा गांधी ने उसी समय दिल्ली लौटने का फ़ैसला किया. दिल्ली में ब्लैक आउट होने के कारण पहले उनके विमान को लखनऊ मोड़ा गया. ग्यारह बजे के आसपास वह दिल्ली पहुँचीं. मंत्रिमंडल की आपात बैठक के बाद लगभग काँपती हुई आवाज़ में अटक-अटक कर उन्होंने देश को संबोधित किया.
पूर्व में तेज़ी से आगे बढ़ते हुए भारतीय सेनाओं ने जेसोर और खुलना पर कब्ज़ा कर लिया. भारतीय सेना की रणनीति थी महत्वपूर्ण ठिकानों को बाई पास करते हुए आगे बढ़ते रहना.

ढाका पर कब्ज़ा भारतीय सेना का लक्ष्य नहीं

आश्चर्य की बात है कि पूरे युद्ध में मानेकशॉ खुलना और चटगाँव पर ही कब्ज़ा करने पर ज़ोर देते रहे और ढ़ाका पर कब्ज़ा करने का लक्ष्य भारतीय सेना के सामने रखा ही नहीं गया.
इसकी पुष्टि करते हुए जनरल जैकब कहते हैं, "वास्तव में 13 दिसंबर को जब हमारे सैनिक ढाका के बाहर थे, हमारे पास कमान मुख्यालय पर संदेश आया कि अमुक-अमुक समय तक पहले वह उन सभी नगरों पर कब्ज़ा करे जिन्हें वह बाईपास कर आए थे. अभी भी ढाका का कोई ज़िक्र नहीं था. यह आदेश हमें उस समय मिला जब हमें ढाका की इमारतें साफ़ नज़र आ रही थीं."


पूरे युद्ध के दौरान इंदिरा गांधी को कभी विचलित नहीं देखा गया. वह पौ फटने तक काम करतीं और जब दूसरे दिन दफ़्तर पहुँचतीं, तो कह नहीं सकता था कि वह सिर्फ़ दो घंटे की नींद लेकर आ रही हैं.
जाने-माने पत्रकार इंदर मल्होत्रा याद करते हैं, "आधी रात के समय जब रेडियो पर उन्होंने देश को संबोधित किया था तो उस समय उनकी आवाज़ में तनाव था और ऐसा लगा कि वह थोड़ी सी परेशान सी हैं. लेकिन उसके अगले रोज़ जब मैं उनसे मिलने गया तो ऐसा लगा कि उन्हें दुनिया में कोई फ़िक्र है ही नहीं. जब मैंने जंग के बारे में पूछा तो बोलीं अच्छी चल रही है. लेकिन यह देखो मैं नार्थ ईस्ट से यह बेड कवर लाई हूँ जिसे मैंने अपने सिटिंग रूम की सेटी पर बिछाया है. कैसा लग रहा है? मैंने कहा बहुत ही ख़ूबसूरत है. ऐसा लगा कि उनके दिमाग़ में कोई चिंता है ही नहीं."

गवर्नमेंट हाउस पर बमबारी

14 दिसंबर को भारतीय सेना ने एक गुप्त संदेश को पकड़ा कि दोपहर ग्यारह बजे ढाका के गवर्नमेंट हाउस में एक महत्वपूर्ण बैठक होने वाली है, जिसमें पाकिस्तानी प्रशासन के चोटी के अधिकारी भाग लेने वाले हैं.
भारतीय सेना ने तय किया कि इसी समय उस भवन पर बम गिराए जाएं. बैठक के दौरान ही मिग 21 विमानों ने भवन पर बम गिरा कर मुख्य हॉल की छत उड़ा दी. गवर्नर मलिक ने एयर रेड शेल्टर में शरण ली और नमाज़ पढ़ने लगे. वहीं पर काँपते हाथों से उन्होंने अपना इस्तीफ़ा लिखा.
दो दिन बाद ढाका के बाहर मीरपुर ब्रिज पर मेजर जनरल गंधर्व नागरा ने अपनी जोंगा के बोनेट पर अपने स्टाफ़ ऑफ़िसर के नोट पैड पर पूर्वी पाकिस्तानी सेना के प्रमुख जनरल नियाज़ी के लिए एक नोट लिखा- प्रिय अब्दुल्लाह, मैं यहीँ पर हूँ. खेल ख़त्म हो चुका है. मैं सलाह देता हूँ कि तुम मुझे अपने आप को सौंप दो और मैं तुम्हारा ख़्याल रखूँगा.
मेजर जनरल गंधर्व नागरा अब इस दुनिया में नहीं हैं. कुछ वर्ष पहले उन्होंने बीबीसी को बताया था, "जब यह संदेश लेकर मेरे एडीसी कैप्टेन हरतोश मेहता नियाज़ी के पास गए तो उन्होंने उनके साथ जनरल जमशेद को भेजा, जो ढाका गैरिसन के जीओसी थे. मैंने जनरल जमशेद की गाड़ी में बैठ कर उनका झंडा उतारा और 2-माउंटेन डिव का झंडा लगा दिया. जब मैं नियाज़ी के पास पहुँचा तो उन्होंने बहुत तपाक से मुझे रिसीव किया."
16 दिसंबर की सुबह सवा नौ बजे जनरल जैकब को मानेकशॉ का संदेश मिला कि आत्मसमर्पण की तैयारी के लिए तुरंत ढाका पहुँचें. नियाज़ी ने जैकब को रिसीव करने के लिए एक कार ढाका हवाई अड्डे पर भेजी हुई थी.
जैकब कार से छोड़ी दूर ही आगे बढ़े थे कि मुक्ति बाहिनी के लोगों ने उन पर फ़ायरिंग शुरू कर दी. जैकब दोनों हाथ ऊपर उठा कर कार से नीचे कूदे और उन्हें बताया कि वह भारतीय सेना से हैं. बाहिनी के लोगों ने उन्हें आगे जाने दिया.

आँसू और चुटकुले

जब जैकब पाकिस्तानी सेना के मुख्यालय पहुँचें. तो उन्होंने देखा जनरल नागरा नियाज़ी के गले में बाँहें डाले हुए एक सोफ़े पर बैठे हुए हैं और पंजाबी में उन्हें चुटकुले सुना रहे हैं.
जैकब ने नियाज़ी को आत्मसमर्पण की शर्तें पढ़ कर सुनाई. नियाज़ी की आँखों से आँसू बह निकले. उन्होंने कहा, "कौन कह रहा है कि मैं हथियार डाल रहा हूँ."
जनरल राव फ़रमान अली ने इस बात पर ऐतराज़ किया कि पाकिस्तानी सेनाएं भारत और बांग्लादेश की संयुक्त कमान के सामने आत्मसमर्पण करें.
समय बीतता जा रहा था. जैकब नियाज़ी को कोने में ले गए. उन्होंने उनसे कहा कि अगर उन्होंने हथियार नहीं डाले तो वह उनके परिवारों की सुरक्षा की गारंटी नहीं ले सकते. लेकिन अगर वह समर्पण कर देते हैं, तो उनकी सुरक्षा की ज़िम्मेदारी उनकी होगी.
जैकब ने कहा- मैं आपको फ़ैसला लेने के लिए तीस मिनट का समय देता हूँ. अगर आप समर्पण नहीं करते तो मैं ढाका पर बमबारी दोबारा शुरू करने का आदेश दे दूँगा.
अंदर ही अंदर जैकब की हालत ख़राब हो रही थी. नियाज़ी के पास ढाका में 26400 सैनिक थे जबकि भारत के पास सिर्फ़ 3000 सैनिक और वह भी ढाका से तीस किलोमीटर दूर !
अरोड़ा अपने दलबदल समेत एक दो घंटे में ढाका लैंड करने वाले थे और युद्ध विराम भी जल्द ख़त्म होने वाला था. जैकब के हाथ में कुछ भी नहीं था.
30 मिनट बाद जैकब जब नियाज़ी के कमरे में घुसे तो वहाँ सन्नाटा छाया हुआ था. आत्म समर्पण का दस्तावेज़ मेज़ पर रखा हुआ था.
जैकब ने नियाज़ी से पूछा क्या वह समर्पण स्वीकार करते हैं? नियाज़ी ने कोई जवाब नहीं दिया. उन्होंने यह सवाल तीन बार दोहराया. नियाज़ी फिर भी चुप रहे. जैकब ने दस्तावेज़ को उठाया और हवा में हिला कर कहा, ‘आई टेक इट एज़ एक्सेप्टेड.’
नियाज़ी फिर रोने लगे. जैकब नियाज़ी को फिर कोने में ले गए और उन्हें बताया कि समर्पण रेस कोर्स मैदान में होगा. नियाज़ी ने इसका सख़्त विरोध किया. इस बात पर भी असमंजस था कि नियाज़ी समर्पण किस चीज़ का करेंगे.
मेजर जनरल गंधर्व नागरा ने बताया था, "जैकब मुझसे कहने लगे कि इसको मनाओ कि यह कुछ तो सरेंडर करें. तो फिर मैंने नियाज़ी को एक साइड में ले जा कर कहा कि अब्दुल्ला तुम एक तलवार सरेंडर करो, तो वह कहने लगे पाकिस्तानी सेना में तलवार रखने का रिवाज नहीं है. तो फिर मैंने कहा कि तुम सरेंडर क्या करोगे? तुम्हारे पास तो कुछ भी नहीं है. लगता है तुम्हारी पेटी उतारनी पड़ेगी... या टोपी उतारनी पड़ेगी, जो ठीक नहीं लगेगा. फिर मैंने ही सलाह दी कि तुम एक पिस्टल लगाओ ओर पिस्टल उतार कर सरेंडर कर देना."

सरेंडर लंच

इसके बाद सब लोग खाने के लिए मेस की तरफ़ बढ़े. ऑब्ज़र्वर अख़बार के गाविन यंग बाहर खड़े हुए थे. उन्होंने जैकब से अनुरोध किया क्या वह भी खाना खा सकते हैं. जैकब ने उन्हें अंदर बुला लिया.
वहाँ पर करीने से टेबुल लगी हुई थी... काँटे और छुरी और पूरे ताम-झाम के साथ. जैकब का कुछ भी खाने का मन नहीं हुआ. वह मेज़ के एक कोने में अपने एडीसी के साथ खड़े हो गए. बाद में गाविन ने अपने अख़बार ऑब्ज़र्वर के लिए दो पन्ने का लेख लिखा ’सरेंडर लंच.’
चार बजे नियाज़ी और जैकब जनरल अरोड़ा को लेने ढाका हवाई अड्डे पहुँचे. रास्ते में जैकब को दो भारतीय पैराट्रूपर दिखाई दिए. उन्होंने कार रोक कर उन्हें अपने पीछे आने के लिए कहा.
जैतूनी हरे रंग की मेजर जनरल की वर्दी पहने हुए एक व्यक्ति उनका तरफ़ बढ़ा. जैकब समझ गए कि वह मुक्ति बाहिनी के टाइगर सिद्दीकी हैं. उन्हें कुछ ख़तरे की बू आई. उन्होंने वहाँ मौजूद पेराट्रूपर्स से कहा कि वह नियाज़ी को कवर करें और सिद्दीकी की तरफ़ अपनी राइफ़लें तान दें.
जैकब ने विनम्रता पूर्वक सिद्दीकी से कहा कि वह हवाई अड्डे से चले जाएं. टाइगर टस से मस नहीं हुए. जैकब ने अपना अनुरोध दोहराया. टाइगर ने तब भी कोई जवाब नहीं दिया. जैकब ने तब चिल्ला कर कहा कि वह फ़ौरन अपने समर्थकों के साथ हवाई अड्डा छोड़ कर चले जाएं. इस बार जैकब की डाँट का असर हुआ.


साढ़े चार बजे अरोड़ा अपने दल बल के साथ पाँच एम क्यू हेलिकॉप्टर्स से ढाका हवाई अड्डे पर उतरे. रेसकोर्स मैदान पर पहले अरोड़ा ने गार्ड ऑफ़ ऑनर का निरीक्षण किया.
अरोडा और नियाज़ी एक मेज़ के सामने बैठे और दोनों ने आत्म समर्पण के दस्तवेज़ पर हस्ताक्षर किए. नियाज़ी ने अपने बिल्ले उतारे और अपना रिवॉल्वर जनरल अरोड़ा के हवाले कर दिया. नियाज़ी की आँखें एक बार फिर नम हो आईं.
अँधेरा हो रहा था. वहाँ पर मौजूद भीड़ चिल्लाने लगी. वह लोग नियाज़ी के ख़ून के प्यासे हो रहे थे. भारतीय सेना के वरिष्ठ अफ़सरों ने नियाज़ी के चारों तरफ़ घेरा बना दिया और उनको एक जीप में बैठा कर एक सुरक्षित जगह ले गए.

ढाका स्वतंत्र देश की स्वतंत्र राजधानी है

ठीक उसी समय इंदिरा गांधी संसद भवन के अपने दफ़्तर में स्वीडिश टेलीविज़न को एक इंटरव्यू दे रही थीं. तभी उनकी मेज़ पर रखा लाल टेलीफ़ोन बजा. रिसीवर पर उन्होंने सिर्फ़ चार शब्द कहे....यस...यस और थैंक यू. दूसरे छोर पर जनरल मानेक शॉ थे जो उन्हें बांग्लादेश में जीत की ख़बर दे रहे थे.
श्रीमती गांधी ने टेलीविज़न प्रोड्यूसर से माफ़ी माँगी और तेज़ क़दमों से लोक सभा की तरफ़ बढ़ीं. अभूतपूर्व शोर शराबे के बीच उन्होंने ऐलान किया- ढाका अब एक स्वतंत्र देश की स्वतंत्र राजधानी है. बाक़ी का उनका वक्तव्य तालियों की गड़गड़ाहट और नारेबाज़ी में डूब कर रह गया.









November 25, 2011

एक आतंकवादी का जीवन

ज्यादा कुछ तो नहीं बोलूँगा इस बार क्यूंकि इस बार मेरे पास बोलने के लिए बहुत कुछ है बसरते  अगर आप कुछ समझना चाहें तो. इस बार मैं मौन हूँ और इस बार बोलेगी मेरी ये विडियो और अगर ये खुद खुदा परिचय नहीं दे पायेगी तो मेरे शब्दों से इसका क्या होगा , मैं मौन हूँ 

November 19, 2011

ये पाकिस्तान है , यहाँ सब अजीब ही होता है

mobile   

                                                           क्या आप बता सकते हैं कि सेक्स, लैवेंडर, मिथ्याभिमान, क्विकी, बट्ट, मैंगो और पुडिंग जैसे अंग्रेजी शब्दों में क्या समानता है ?


 समानता यह है कि ये उन 1000 शब्दों की सूची में शामिल हैं जिन्हें पाकिस्तान का दूरसंचार प्राधिकरण आपत्तिजनक मानता है.


दूरसंचार प्राधिकरण के इस फैसले ने आम पाकिस्तानियों को सकते में डाल दिया है क्योंकि वो ये तय नहीं कर पा रहे हैं कि इस फैसले का स्वागत करें, इससे विचलित हों या फिर इसका विरोध करें.दूरसंचार प्राधिकरण ने पाकिस्तान के सभी मोबाइल ऑपरेटरों से कहा है टेक्सट मैसेज में इस्तेमाल किए गए ऐसे किसी भी शब्दो को ब्लॉक कर दिया जाए.पाकिस्तान की तमाम वेबसाइट्स पर ऐसे शब्दों की एक अपुष्ट लिस्ट का प्रचार किया जा रहा है जिन्हें अश्लील माना जा सकता है. इसके बावजूद इनमें से कुछ शब्द ऐसे हैं जिनसे अति उत्तेजक स्वभाव वाले लोग भी नाराज़ हो गए हैं.हालाँकि कुछ पाकिस्तानियों ने संचार प्राधिकरण का ये कहकर शुक्रिया अदा किया कि प्राधिकरण ने उन्हें ऐसे शब्दों से अवगत कराया है जिनसे वो अब तक अंजान थे.

येलोमैन क्या है?

ट्विटर के 140 अक्षरों वाले पोस्ट में शायद ये पहला मौक़ा हो जब आया है कि 'मंकी, क्रॉच, एथलीट्स फ़ुट और येलोमैन' जैसे शब्दों का सिलसिलेवार प्रयोग हो रहा है.ट्विटर पर बार-बार #Pta bannedlist का टैग लगाकर इन शब्दों का प्रयोग किया जा रहा है.कुछ लोग जहां इन शब्दों के मतलब पूछ रहे हैं, वहीं एक तबका सरकार के इस फैसले से काफी गुस्से में है.वो लोग कहते हैं कि पीटीए ने प्रतिबंधित सूची इसलिए जारी की है क्योंकि वो अपने बारे में सच सुनने की हिम्मत नहीं रखती.

'सेंसरशिप का लंबा इतिहास'

पाकिस्तान में सेंसरशिप का एक लंबा इतिहास रहा है. पत्रकारों के साथ सार्वजनिक तौर पर दुर्व्यवहार होने के अलावा सत्ता का विरोध करने वालों पर हमले भी हो चुके हैं.

लेकिन कुछ लोगों ने इस लिस्ट में भी ग़लतियां ढूंढनी शुरु कर दी हैं, मसलन इस लिस्ट में ग़लत तरीके से लिखेगए 'मैस्टबेशन' से जुड़े सभी शब्दों के इस्तेमाल पर तो रोक है, लेकिन इस शब्द के सही से लिखे गए स्पेलिंग पर कोई रोक नहीं है.आश्चर्यजनक तौर पर इस लिस्ट में जीज़स क्राइस्ट और सेटन जैसे शब्द भी शामिल हैं. कुछ लोग उस 'विद्वान' को ढूंढ रहे हैं जो ये सूची बनाकर संचार तंत्र में शालीनता लाना चाहता है.
'लिस्ट-एक सुरक्षा तंत्र'



पाकिस्तान की नियामक संस्था के प्रवक्ता मोहम्मद यूनुस ने गार्डियन अख़बार को बताया है कि ये बैन मोबाइल उपभोक्ताओं की शिकायतों के बाद लागू किया गया है.कुछ मोबाइल उपभोक्ताओं को आपत्तिजनक संदेश मिलने की शिकायत के बाद ये कदम उठाया गया.अंत में आम पाकिस्तानी ये मानता है कि उसके अंदर सृजनशीलता कूट-कूट कर भरी है और संचार प्राधिकरण की सेंसरशिप के बावजूद वो अपनी भावनाओं को बख़ूबी व्यक्त कर सकता है.जबकि दूरसंचार प्राधिकरण के अनुसार ये सूची युवाओं की सुरक्षा के लिए बनाई गई है.

जहाँ और भी हैं

मुंबई की एक चौड़ी और ट्रैफ़िक से भरी सड़क के एक चौराहे पर एक छोटे क़द का इंसान दोनों हाथ ऊपर उठाए और हाथ में एक बोर्ड लिए एक पैर पर खड़ा है.
दोपहर का समय है. सूरज सर के ऊपर है. नवंबर का महीना ज़रूर है लेकिन मुंबई में सर्दी कब होती है.इस इंसान का नाम है कृष्ण अवतार उर्फ़ कृष्ण दास. कृष्ण दास पिछले तीन वर्षों से अमिताभ बच्चन के घर के क़रीब जुहू सर्किल नामक इस चौराहे पर दिन भर खड़े रहते हैं और राहगीरों, वाहन चालकों, ट्रैफ़िक पुलिस वालों और आम आदिमयों को मुस्कुरा कर सबसे प्रेम करने और अपने धर्म पर चलने का पैग़ाम देते आ रहे हैं.लेकिन यह इंसान गर्मी की परवाह न करके मुस्कुराते हुए कई घंटों से खड़ा है और अगले कई घंटों तक खड़ा रहेगा. बोर्ड पर बड़े अक्षरों में लिखा है, "अपने धर्म पर चलो. सबसे प्रेम करो."
प्यार का यह संदेश कोई नई बात नहीं. संत और महात्मा यह पैग़ाम सदियों से देते चले आ रहे है. लेकिन 50 वर्षीय ये साधू कहते हैं कि प्रेम का इस्तेमाल सबसे पहले घर से शुरू किया जाए, तो आदमी सुखी रहेगा और घर से बाहर भी ख़ुशी का माहौल बनाना पसंद करेगा.
सुबह जॉगिंग करने वालों की एक बड़ी भीड़ होती है. इसका मतलब ये हुआ कि इन संदेशों के बारे में लोगों में उत्सुकता ज़रूर जागेगी.


कृष्ण दास कहते हैं, "लोग इन पैग़ामों को पढ़ते हैं और मेरे पास आकर सवाल करते हैं. आम तौर से लोगों को मेरी यह कोशिश पसंद है और हमें काफ़ी समर्थन मिलता है. लेकिन ज़ाहिर है कुछ लोगों को यह कोशिश बेमानी लगती है और वो अपने विचारों को खुल कर प्रकट भी करते हैं."
जॉगिंग करती एक जोड़ी ने कहा कि वो बाबा की कोशिश को सराहते हैं, लेकिन इसका कोई फ़ायदा नहीं. लोग उनके पैग़ाम को पढ़ते हैं और जुहू बीच से बाहर जाते ही भूल जाते हैं. लेकिन अधिकतर लोग कृष्ण दास की कोशिशों की प्रशंसा करते सुनाई दिए.
गन्ने के रस की एक दुकान वाले ने कहा कि वो बाबा की लगन से बहुत प्रभावित हैं.
वो कहते हैं, "बाबा को हर रोज़ मैं यहाँ देखता हूँ. बारिश हो या बरसात. गर्मी हो या धूप, वो यहाँ ज़रूर आते हैं. हर रोज़ सुबह को यह तख्तियां रेत में गाड़ते हैं और व्यायाम करते हैं. फिर लोग उनके पास आते हैं और इन तख्तियों पर लिखे संदेशों के बारे में पूछते हैं."
फ़िल्मी जगत के अलावा भी लोग उनका प्रोत्साहन बढ़ाते हैं. वो कहते हैं, "मुझे बुर्के वाली मुस्लिम महिलाएं भी आकर बधाई देती हैं और कहती हैं कि मेरा पैग़ाम सही है."
कृष्ण दास कहते हैं कि वो किसी से पैसे या और किसी तरह की मदद नहीं लेते. तो फिर वो अपना पेट कैसे भरते हैं?
जवाब में कृष्ण दास कहते हैं, "मेरे गुरु संत मुरारी बापू मेरी देखभाल करते हैं. ये वही संत हैं, जिन्होंने विश्व धर्म सम्मलेन करवाया था और तब से मैं उनका भक्त हो गया हूं."
कृष्ण दास कहते हैं कि वो सबसे अच्छा मार्गदर्शन देने वालों में से एक हैं. वो शिष्य नहीं बनाते, लेकिन मैंने मुरारी बाबू को अपना गुरु बना लिया है.

November 18, 2011

खाव्ब-कुछ तेरे कुछ मेरे



शीशा में देखता देखता चेहरा अपना
तो रो देता देता.....
किसी ने न पोछा आंसू , जबसे तुम गए हो
खामोश हो चुकी है जुवां जब से तुम गए हो
मेरी आँखों में टूटे हुए सपने कुछ दे गए हो
उन्ही सपनो में अब जिंदगी की गुजर करता हूँ
खाव्ब को तोडा नहीं जब से तुम गए हो .


एक दोस्त कच्चा-पक्का सा




कोई तुमसे पूछे "कौन हूँ मैं"
तुम कह देना "कोई खास नहीं "
एक दोस्त है कच्चा-पक्का सा
एक झूठ  है आधा सच्चा सा 
जजबात को ढके एक पर्दा सा 
शायद एक बहाना अच्छा सा.
जीवन का एक साथी ऐसा था
जो दूर रहकर भी पास नहीं
कोई तुमसे पूछे "कौन हूँ मैं"
तुम कह देना "कोई खास नहीं" 

November 17, 2011

जीना इसी का नाम है

ओन्त्लामेत्से फलास्टर जी हाँ यही नाम है इस छोटी सी अफ्रीकान  लड़की का  ...इसकी उम्र केवल १२ साल  है .ये एक ऐसे रोग से पीड़ित है जिसका इलाज संभव नहीं  है . डॉक्टर  का कहना है की ये अब बस चंद दिनों की मेहमान है . उनका कहना है की ये ऐसी सिंड्रोम से पीड़ित है जिसमे आदमी का दिल ८-२१ साल के अन्दर फेल हो जाता है ... 












पर शायद ही फलास्टर को पता हो की ये क्या होता ही..वो तो बस अपने स्कूल और खेल में लगी है......क्या पता कल हो न हो .....आखीर जीना इसी का नाम है .

"यादें अतीत की....."

खुशामदीद तुम आये 
ये ऊंचा पहाड़ तुम्हे देखता है 
और मैं ढूंढता हूँ शब्द 
तेरी उन हर ख़ामोशी का
जिसे मैं शायद मैं कभी समझा नहीं
नज़रों को पढता हूँ तेरी 
उन दिनों के तार जोड़ता हूँ
जो कहीं गुम से हैं इस शहर  में 


उन पगडंडियों को 
देखता रहता हूँ अपलक 
हांथों में हाथें दाल 
चले थे जिनपे हम कभी
तुम्हारे होने का अबतक है एहसास
उन पगडंडियों , गलियों और उन फुठपाथों को 


अब तुम मत जाना 
हम वादियाँ फिर से चुन लायेंगे
बेहिसाब यादों की रंगिनिया
और उन्हें सहजता से निखर देंगे 
इतिहास का पन्ना बने 
गुमनाम उन पलों को .....!!!  


                                                        (दो शब्द उस पारी के लिए -१४ फरबरी २०११)